Software Engineering kya hoti hai

Software Engineering kya hoti hai

hello दोस्तों monkeyweb के इस नये blog Software Engineering kya hoti hai में आपका स्वागत है

Software आज शायद ही कोई होगा जो इसके बारे मे नहीं जनता हो लेकिन क्या आप जानते है की Software Engineering kya hai और आप किस तरह से Software Engineering kar sakte hai वो किस तरह के course या Degree है जिसको करने के बाद आप Software Engineering बन पाएँगे मै आपको इसकी पूरी जानकारी दूंगा

Software technology computer से related होती है computer के दो part होते है ये तो hardware और दूसरा है Software Software Engineering computer के इसी भाग से सबंधित होता है यहाँ पर आगे इस blog Software Engineering kya hoti hai software development , Software maintinance और Testing के बारे में हम आगे इस blog Software Engineering kya hoti hai में जानेगे में जानेगे

Computer Program

किसी भी particular task को पूरा करने के लिये लिखे गये instruction को ही हम computer program कहते है अगर इसको हम simple तरिके से समझे तो एक file होती है जिसमे हम Set of instruction लिखते है किसी particular task को complete करने के लिये और जब हम उस file को run कराते है तो हमारा task हो जाता है

computer program किसी भी language में लिखा जा सकता है जैसे – java , C++ , Python

Software Engineering kya hoti hai

Software Engineering kya hoti hai

Software Engineering ऐसी इंजीनियरिंग होती है जिसमे हम ये जनते है की किसी भी सॉफ्टवेर को किस तरह develop किया जाता है Software Engineering दो शब्दों से मिलकर बना है Software और Engineering तो सबसे पहले हम इन दोनों term को अलग अलग करके समजते है

What is Engineering-

Software अगर आसन भाषा में बताऊ तो Software के अंदर muliple programes होते है और इससे जुडी लाइब्रेरीज होती है और सभी programe की Documentation भी होती है जिसमे सभी programe की इनफार्मेशन दी होती है ताकि जो भी इसको use करे उसको आसनी हो software को समझने में

किसी भी software को किसी न किसी Specific Task के लिये develop किया जाता है or ऐसे में हम इसको software product कहते है

Example –

Adobe pdf Reader
Railway Sites
Banking Site

What is Engineering –

जब भी किसी product को develop किया जाता है तो उस product को develop करने का तो well-Defined method या rule होता है जिसकी base पर product making होती है उसी को इंजीनियरिंग कहते है

Engineering की बहुत सी ब्रांच होती है जैसे की Machinical , Electronic जो अलग अलग use के अनुसार product की development करते है

Software Engineering kya hoti hai

software computer science का ही एक Branch होता है जो software product को develop करने के काम में आता है और इसी को हम software भी कहते है

और इस तरह जो भी software / software product बने वह सही तरह से काम करना चहिये और साथ ही वह reliable भी होन चहिये यानि उस पर लोगो का भरोसा होना चहिये की वह हमारे लिये accurate कम करे

Digital Marketing kya hai

Software Evolution kya hota hai –

Software Evolution kya hota hai

अब Software Engineering kya hoti hai के बाद हम जानते है की software Evolution क्या होता है तो यह software इंजीनियरिंग
में use होने वाले सभी teminology or method को define करने वाला एक term है जिससे हम किसी भी software को बनाते है जिसको हम software Evolution कहते है

इसके साथ ही ये software की initial development से लेकर उसकि उसकि maintenance तक सभी चीजो को manage करता है जैसे की software के updates, Development जब तक software complate न हो जाये

Software Development Life Cycle kya hai

तो दोस्तों अब मै आपको So tware Development Life Cycle kya hai लेकिन
उससे पहले मै आपको बताऊंगा की software development kya hota hai ताकि आपको Software Development Life Cycle को समझने में कोई problem ना हो

Software Development kya hai –

wase बहुत से product ऐसे होते है जिसको develop करने के बाद उसमे किसी तरह की changes की जरुरत नहीं होती है लेकिन

software development में ऐसा नही होता है यहाँ पर product को develop करने के साथ ही हमको उसको time time पर maintain भी करना होता है और इसी वजह से software development में दो term आते है Creation और Maintinance

                  Creation + Maintinance

यहाँ कुछ basic steps है जिससे होकर software development किया जाता है –

Coceiving – software idea

Specifying -Functionlity of software

Designing – Designing of software

programming- code of software

Documenting- details of software

Testing- last fase of software

Bug Fixing – fixing bug /error of software

Software Development Life Cycle kya hai –

इसको हम SDLC भी कहते है या फिर इसको हम software development process भी कहते है Software Development Life Cycle एक तरह की process होती है जिसका use High quality के software को develop करने और उसको design करने के लिये किया जाता है

अब आप जान गये होगे की Software Development Life Cycle kya hai लेकिन अब हम इसके सभी steps को details में जनते है

1.Planning –

software development Life Cycle की यह पहली फेज होती है जिसमे हम ये deside करते है की हम हमको किस तरह का software develop करना है उसकि Functionality Requirements kya है साथ ही इसक यूजर interface कैसा होता है

और हम इसको इसके लिये हम paltfrom का use करेंगे और हम किस device के लिये इसको bna रहे यानि हर तरह की planning हम इस first fase में करते है

2.Anaysis –

ये हमारा दूसरा phase होता है जहा हम ये समझते है की problem क्या है ताकि हम जान सके की हमको किस तरह का software develop करना है और साथ ही हम अपना goal भी deside करते है जिसके लिये हम सारी जरुरी चीजो को ध्यान में रखते हुवे software की Feasibility भी देखते है

किसी भी software को develop करने से पहले Feasibility जैसे term को अच्छे से जान लेन चाइये क्युके बहुत से software product ऐसे है जिस पर work तो start तो हो जाता है लेकिन वह आगे चलकर crash हो जाता है अगर आपने Feasibility study सही से नहीं करी है

3 .Design –

Anaysis के बाद हम software design में इसकी Detailed Specification करते है यानि की software क्या क्या करेगा और इसकी क्या requiremnt होगी ये define करेंगे

इसके बादsoftware का user interface finalize किया जाता है की साथ इसक application Architechture कैसा होग ये deside करते है और last में हम इसा test paln बनाते है जिसमे हम software के लिये किस तरह के test करवाने है ये deside करते है

4.Implementation –

इस step में हम software में code development करते है यानि हमारी application में जो कोडिंग करनी होगी वो हम इसमें करेंगे आप ऐसे समझ सकते है किसी भी software development का जो भी कोडिंग होती है वह इसी step में की जाती है

5 .Testing Integration –

Unit and integration testing

System testing

User acceptance tetsing

installation and Staging environment

Unit and integration testing

System testing

User acceptance tetsing

installation and Staging environment

ये Software Development Life Cycle kya hai का पांचवा fase है यहाँ पर सभी तरह की testing करी जाती है जो किसी भी software product के लिये जरुरी होती है

कोई भी software development में वह बहुत से छोटे छोटे प्रोग्राम या module में रहता है ऐसा में जब हम सभी को अलग अलग test करते है तो इसको हम unit testing और जब हम इसको Club करके यानि सभी को जोड़ करके test करते है तो इसको हम इंटीग्रेशन tetsing कहते है

इसके बाद जब हम अपने पुरे sysytem को test करते है तो उसको whole system tetsing कहते है इसके बाद हमने जो software product develop किया है उसको हमें किसी customer को देन है और इसिलए हम इसको User acceptance tetsing भी करते है

इसके बाद हमारा software सभी enviroment में सही से work कर रहा है या नहीं इसको जानने के लिये हम उसकि installation and Staging environment भी करते है

6 . Maintenance –

किसी भी Software Developemnt life cycle का ये last fhase होता है जहा पर हम इसकी Installation और production करते है

जब भी हम किसी भी software product को develop करते है तो उसके लिये हम किसी न किसी dummy Enviourment का use करते है लेकिन जब हमारा सॉफ्टवेर production के लिये ready हो जाता है तो हमको उसको real Enviourment में install और उसका production करना होता है ताकि उसपे work किया जा सके जिसके बाद उस software की maintinance करना यानि की उसको development support देना उसमे अगर आगे कोई Bug आता है तो उसको fix करना ये सब होता है

SDLC model –

तो इस तरह के stazes से ही sdlc model tayar किया जाता है जिसको हम software development life cycle model कहते है यहाँ पर मै आपको कुछ ऐसे ही SDLC model के बारे में बताता हु

Water fall Model –

Iterative Model –

Spiral Model –

V- Model –

Bing – Bing Model –

Final Word –

So friends hope You like this blog Software Engineering kya hoti hai and please Drop your valuable Comments about my blog and Also Share with your Friends be with us for more information |  जय  हिन्द

2 thoughts on “Software Engineering kya hoti hai”

Leave a Comment

x